कर्बे तनहाई है वो शै कि ख़ुदा.......

कर्ब कहते हैं दुख को । बहुत ज़्यादा दुख, तकलीफ़। वो तकलीफ़ जो इंसान अपनी रूह में महसूस करता है । और जिसको लफ़्ज़ों में बयान करना बहुत मुश्किल होता ।

जौन एलिया ने बहुत ही कर्बनाक ज़िंदगी गुज़ारी है । शुरू से आख़िर तक उनकी ज़िंदगी दुख ही दुख रही है । मगर ये दुख दुनियावी चीज़ों के लिए नहीं था । ये तड़प थी अकेलेपन की तड़प, तनहाई का कर्ब । मेरे ख़याल में तनहाई को दो अलग अलग तरह से समझा और समझाया जा सकता है । आप अकेले हैं, कोई आपका दोस्त या चाहने वाला नहीं तो आप तन्हा हैं । आप के चाहने वाले हैं । आप हमेशा दोस्तों में घिरे रहते हैं मगर कोई आपको समझने वाला नहीं । कोई आपके एहसास की शिद्दत को,  आपके ख़यालों को समझ नहीं पाता । तब भी आप तन्हा हैं । और ये तनहाई पहले वाली तनहाई से ज़्यादा दुख देती है । मेरे मानना है कि इंसान कि दिली चाह होती है कि उसके समझा जाये । उसे सुना जाए । उसकी बात उसके ख़यालों पर कम से कम ग़ौर ही किया जाए अगर उनसे सहमत न भी हों तो । मगर ये सब न होने पर इंसान अकेलापन महसूस करने लगता है । उसे लगता है कि कोई भी उसे समझने वाला नहीं । वो अपनी बात तो लफ़्ज़ों में अदा कर सकता है मगर अपने एहसास को लफ़्ज़ों में ज़ाहिर नहीं कर पाता। और ऐसे हालात में उसे उसकी तनहाई का बहुत गहरा एहसास होता है ।

अब जौन एलिया का वो शेर पढ़िये जिसके पहले मिसरे (पंक्ति) को मैंने टाइटिल बनाया है..............

कर्बे  तनहाई  है  वो शै कि ख़ुदा 
आदमी को पुकार उठता है !! 

दूसरी तनहाई वो है जिसका मैंने पहले ज़िक्र किया । कहते हैं इंसान बुनियादी तौर पर तन्हा रहने के लिए पैदा नहीं हुआ । उसने अपने वजूद में आने के कुछ वक़्त के अंदर ही गिरोह बनाकर रहना सीख लिया । और उसकी यही आदत है जो उसे अकेलेपन का एहसास कराती है । जौन ने इस चीज़ को बहुत शिद्दत से महसूस किया । उनके मुताबिक़ तनहाई इतनी तकलीफ़ देह चीज़ है कि ख़ुदा भी अपनी तनहाई को दूर करने के लिए इंसान को बनाने पर आमादा हुआ । हालांकि इस शेर के लोग अलग अलग मतलब निकलते हैं । कुछ लोगों को कहना है कि यहाँ जौन ने मेराज (इस्लामी रिवायत के मुताबिक़ पैग़ंबर साहब को ख़ुदा ने खास तौर से आसमान की सैर के लिए बुलाया था) के वाक़ये की तरफ़ इशारा किया है । मेरा मानना है कि ये मतलब सही नहीं है । मज़हब कहता है कि ख़ुदा ने इस पूरी कायनात को पैदा किया । फिर इंसान को पैदा किया । इससे पहले सिर्फ़ वो ही मौजूद था । पूरी कायनात में तन्हा और अकेला । जौन ने इसी नज़रिये की तरफ़ इशारा करते हुए तनहाई के एहसास की शिद्दत को बयान किया है । तनहाई पर इससे ज़्यादा असरदार शेर शायद ही किसी ने कहा हो । जौन ने ऊपर बयान की गयी दोनों तनहाई के दर्द को सहा है । सिर्फ़ सहा ही नहीं उसे जिया भी है ।

जौन हम ज़िंदगी की राहों में 
अपनी तनहारवी के मारे हैं !!

No comments:

Post a Comment