Zahn o dil mein ubhar raha hai koi (Ghazal)


zahn o dil mein ubhar raha hai koi
kya mujhe yaad kar raha hai koi?

ज़्हनो दिल में उभर रहा है कोई
क्या  मुझे याद  कर  रहा  है  कोई

phir se kuch naqshhaye gham hain ayan
dasht e dil se guzar raha hai koi

फिर से कुछ नक़्शहाए ग़म  हैं अयां
दश्ते  दिल से गुज़र  रहा है कोई 

 shor hai shor qatl hone kaa
kya khuda se mukar raha hai koi?

शोर  है  शोर  है  क़त्ल होने का
क्या ख़ुदा से मुकर रहा है कोई

main to paigham le ke aaya hun
kis liye mujhse dar raha hai koi

मैं तो पैग़ाम ले के आया था
किस लिए मुझ से दर रहा है कोई

 arham ar rahemeen ke bandon ka
naam sunkar sihar raha hai koi

अरहम अर्राहेमीं  के बंदों का
नाम सुनकर सिहर रहा है कोई

 mujhko manzil ki justuju kyun ho
 kab mera hamsafar raha hai koi

मुझको मंज़िल की जुस्तुजू क्यूँ हो
कब मेरा हमसफ़र रहा है कोई

 ahl e duniya tumhein mubarakbad
roz ji ji ke mar raha hai koi

अहले दुनिया तुम्हें मुबारकबाद
रोज़ जी जी के मर रहा है कोई

go ki mazmoon sab purane hain
pahli bar arz kar raha hai koi

गो की मज़मून सब पुराने हैं
पहली बार अर्ज़ कर रहा है कोई

aao manzar pa roshni chhidko
ismein kuch rung bhar raha hai koi

आओ मंज़र पे रोशनी छिड्को
इसमें कुछ रंग भर रहा है कोई

- Abu Turab Naqvi

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.